शुक्रवार, 18 अगस्त 2017

मेरी जिज्ञासा

   माननीय प्रधान मंत्री जी ! 
                                 सादर नमस्कार !
          विषय - भूकंप आने का वास्तविक कारण जानने हेतु !
 महोदय ,
       
        सूचना के अधिकार के तहत कई बार जानकारी माँगे जाने पर भी मुझे उचित उत्तर नहीं दिया जा रहा है
भारत सरकार का एक सक्षम विभाग भूकंप के विषय में लगातार अनुसंधान कर रहा है जिस पर सरकार के कोष से भारी भरकम धन खर्च होना स्वाभाविक ही है सरकार की भूकंप शोधयात्रा में इतना धन और समय व्यय करने के परिणाम स्वरूप अभी तक भूकम्पों के विषय में अनुभवरूप में हमें क्या मिला है !भूकम्पों के विषय में पूर्वानुमान लगाने के विषय में अभीतक कोई सफलता नहीं मिल पाई है ये बात समझ में आती है किंतु क्या ये बताया जा सकता है कि भूकंप आने का कारण क्या है ?उन कारणों के आधार भूत तर्क और प्रमाण क्या हैं जिनके आधार पर उन कारणों पर विश्वास किया जा सके !दूसरी बात भूकम्पों के विषय में इस समय जो शोधकार्य चलाए जा रहे हैं वे क्या हैं और उनके लिए प्रेरित करने वाले आधार भूत कारण कौन कौन से हैं ?
     महोदय ! मैं 'वैदिकविज्ञान' के अंतर्गत आने वाले 'समयविज्ञान'  विषय के द्वारा भूकंप आने के कारण एवं पूर्वानुमान विषय पर विगत बीस वर्षों से शोधकार्य में लगा हूँ उससे प्राप्त अनुभवों में कई बातें बहुत विशेष लगती हैं जिनके आधार पर मुझे लगता है कि भूकंप संबंधी शोध कार्यों में बड़ा सहयोग मिल सकता है |

भरी   मेरी जिज्ञासा है कि भूकंप आता क्यों है ?

इसका वास्तविक कारण किसे माना जाए !पहले बताया जाता था कि जमीन  के अंदर के ज्वाला मुखियों के कारण भूकंप आता है किंतु फिर प्रश्न उठने लगा कि जहाँ ज्वालामुखी नही हैं वहाँ भूकंप क्यों आता है ?इसका जवाब नहीं दिया गया !कोयना में जब जलाशय बना फिर उसमें पानी भरा गया उसके बाद से वहाँ भूकंप आने लगे आम लोग कहने लगे जलाशय बनने के कारण भूकंप आते हैं भूकंप विचारक भी यही कहने लगे !इस पर प्रश्न उठा कि जहाँ जलाशय नहीं है वहाँ भूकंप क्यों आते हैं और जहाँ जहाँ जलाशय बनते हैं सब जगह भूकंप क्यों नहीं आते हैं इसका कोई उत्तर नहीं दिया गया ! जिस क्षेत्र में जितनी कम ज्यादा संख्या में भूकंप आया करते थे उसके हिसाब से उन उन क्षेत्रों को भूकंप जोन की श्रेणी में बाँटा जा चुका था उस हिसाब से कोयना जैसी जगहें तो उस हिसाब से भी सामान्य श्रेणी में आती थीं !इससे ये श्रेणी विभाजन भी संदिग्ध हो गया !जहाँ तक जमीन के अंदर गहरा गड्ढा खोदकर उसमें भूकम्पों से सम्बंधित अध्ययन की बात है तो ऐसा करना जरूरी क्यों समझा गया वो आधार भूत कारण क्या हैं ? कुछ देशों में पहले भी गहरे गड्ढे खोदे जा चुके हैं उनका प्रयोजन क्या था अनुभव क्या मिले इसके विषय में कोई जानकारी प्राप्त की गई है क्या ?